प्रदेश के निजी अस्पतालों को भी शासकीय योजनाओं से जोड़ा जाएगा - मुख्यमंत्री श्री चौहान

प्रदेश के निजी अस्पतालों को भी शासकीय योजनाओं से जोड़ा जाएगा - मुख्यमंत्री श्री चौहान

मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान ने कहा है कि गरीब तबके के व्यक्तियों को अधिक से अधिक चिकित्सा सुविधा प्रदान करने के उद्देश्य से प्रदेश के ऐसे निजी अस्पताल, जो गरीब वर्ग को नि:शुल्क चिकित्सा सुविधा प्रदान करना चाहते हैं, को भी शासकीय योजनाओं से जोड़ा जाएगा, ताकि दीन दयाल अंत्योदय उपचार योजना, जननी सुरक्षा योजना आदि का लाभ गरीब वर्ग को निजी चिकित्सालयों में इलाज करवाने पर भी मिल सके। इस संबंध में राज्य शासन निजी चिकित्सालयों से अनुबंध करेगा। शासन का संकल्प है कि प्रदेश के प्रत्येक व्यक्ति को समुचित चिकित्सा सुविधा प्राप्त हो।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने आज यहां एक निजी अस्पताल संजीवनी हॉस्पीटल एवं रिसर्च सेन्टर के शुभारंभ अवसर पर कहा कि प्रदेश में मातृ मृत्यु दर एवं शिशु मृत्युदर को कम करने के उद्देश्य से संस्थागत प्रसव को बढ़ाने के लिए हर संभव प्रयास किए जा रहे हैं। प्रदेश में गत वर्षों की तुलना में संस्थागत प्रसव की दर अब 24 प्रतिशत से 56 प्रतिशत हो गई है। उन्होंने बताया कि वे मुख्यमंत्री स्वेच्छानुदान की राशि विशेष रूप से मरीजों के इलाज के लिए स्वीकृत करते हैं। मुख्यमंत्री स्वेच्छानुदान की राशि को 2 करोड़ से बढ़ाकर 9 करोड़ कर दिया गया है। जिलों में कलेक्टर को राज्य बीमारी सहायता कोष से गरीब वर्ग के व्यक्तियों के इलाज के लिए 75 हजार रूपये तक की सहायता स्वीकृत करने के अधिकार हैं। अंत्योदय उपचार योजना के अंतर्गत सभी वर्ग के गरीबों के इलाज पर एक वर्ष में 20 हजार रूपये व्यय किए जाने का प्रावधान है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में गरीबी रेखा में नाम जोड़ने की प्रक्रिया को निरंतर बनाया गया है, जिससे प्रत्येक गरीब व्यक्ति का नाम गरीबी रेखा की सूची में आ सके। इस प्रक्रिया के चलते प्रदेश में गरीबी रेखा से नीचे जीवन यापन करने वाले व्यक्तियों की संख्या 44 लाख तक पहुंच गई है। शासन ने ऐसी व्यवस्था की है कि प्रदेश के दूरस्थ गांवों में अस्पताल स्वयं जाकर मरीजों का इलाज करे। इसके लिए प्रदेश में सर्व चिकित्सा सुविधा युक्त 79 चलित अस्पताल प्रारंभ किए गए हैं। बी.ए.एम.एस. एवं अन्य चिकित्सा सेवाओं के चिकित्सकों की अधिक से अधिक संख्या में भर्ती किए जाकर उन्हें शासकीय अस्पतालों में भिजवाया जाएगा।

इस अवसर पर सांसद डॉ सत्यनारायण जटिया, प्रदेश के स्कूल शिक्षा राज्य मंत्री श्री पारस जैन, स्वामी डॉ दिव्यानन्द भिक्षु, श्री नरेन्द्र तोमर, महापौर सुश्री सोनी मेहर, विधायक श्री शिव नारायण जागीरदार, उपस्थित थे।

 

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

नाम निर्देशन पत्र प्राप्त करने की आज अंतिम तारीख आज 17 उम्मीदावरों ने नाम निर्देशन पत्र दाखिल किये

14 स्थान कंटेनमेंट जोन से मुक्त

कवल वन्यजीव अभयारण्य में वन भूमि का अतिक्रमण