भेषज कंपिनयों द्वारा धनराशि को हड़पना

भेषज कंपिनयों द्वारा धनराशि को हड़पना

लोकसभा

                 कारपोरेट कार्य मंत्री श्री प्रेम चन्द गुप्ता ने आज लोकसभा में एक प्रश्न के लिखित उत्तर में बताया कि कुछ भेषज कंपनियों द्वारा अपनी सहयोगीअनुषंगी कंपनियों के साथ लाइसेंसिंग समझौते के माध्यम से धनराशि हड़पने की अफवाह फैलाई जा रही है। किंतु मंत्रालय के पास इस प्रकार की कोई जानकारी उपलब्ध नहीं हैं। कंपनियों की लागत लेखापरीक्षा कंपनी अधिनियम, 1956 की धारा 233ख के अंतर्गत की जाती है तथा इसके अनुपालन की निगरानी कारपोरेट कार्य मंत्रालय द्वारा की जाती है। राष्ट्रीय भेषज मूल्यांकन प्राधिकरण भी भेषज कंपनियों के संबध में यथोचित नियामक कार्रवाई करने हेतु इस मंत्रालय से लागत लेखापरीक्षा रिपोर्टें प्राप्त कर रहा है।

 

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

6 हजार 284 आंगनवाड़ी केन्द्रों से 4 लाख 55 हजार 238 बच्चे, गर्भवती महिलायें और धात्री माताओं को पोषण आहार से लाभान्वित

वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से 26 सितम्बर को स्थाई एवं निरंतर लोक अदालत का आयोजन

मतदाता जागरूकता के लिए रंगोली प्रतियोगिता का आयोजन