खूनी भण्डारा स्मारक राज्य संरक्षित किये जाने के लिये अधिसूचना जारी

खूनी भण्डारा स्मारक राज्य संरक्षित किये जाने के लिये अधिसूचना जारी

राज्य शासन ने बुरहानपुर जिले के पातोड़ा क्षेत्र में स्थित पुरातत्वीय महत्व के स्मारक खूनी भंडारा को राज्य संरक्षित घोषित किये जाने के लिये अधिसूचना जारी की है।

सम्राट जहांगीर के काल में बुरहानपुर के सुबेदार अब्दुल रहीम खानखाना ने इसका निर्माण वर्ष 1615 में कराया था। बुरहानपुर से लगभग 4 किलो मीटर दूर स्थित यह प्राचीन स्मारक बेहतरीन जल प्रदाय व्यवस्था का अनूठा नमूना है। बुरहानपुर नगर की जल समस्या को दूर करने के लिये सतपुडा के अंचल में छिपे जल भण्डार का उस दौर में पता लगाया गया था और सुरंगो के जरिये जल को शहर तक लाया गया था। खूनी भंडारा में करीब तीन जलाशयों का निर्माण कराया गया था, जो 80 से 100 फुट तक गहरी है। जल प्रदाय की इस व्यवस्था में साफ सफाई और प्रकाश की एसी बेहतरीन व्यवस्था है जिसकी कोई मिसाल नहीं मिलती।

जल संग्रहरण की प्राचीन पध्दतियों और पुरातत्व महत्व के इस स्मारक की इन अनूठी विशेषताओं इस बात को दृष्टिगत रखते हुए इस स्मारक की सुरक्षा के व्यवस्था के लिये राज्य संरक्षित किये जाने के अधिसूचना जारी की गई है।

 

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

6 हजार 284 आंगनवाड़ी केन्द्रों से 4 लाख 55 हजार 238 बच्चे, गर्भवती महिलायें और धात्री माताओं को पोषण आहार से लाभान्वित

वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से 26 सितम्बर को स्थाई एवं निरंतर लोक अदालत का आयोजन

मतदाता जागरूकता के लिए रंगोली प्रतियोगिता का आयोजन