मेट्रो रेल से लेकर ताजमहल तक-बकरवाल बच्चे सब देखेंगे

मेट्रो रेल से लेकर ताजमहल तक-बकरवाल बच्चे सब देखेंगे

       भारतीय सेना के उप प्रमुख ले0 जन0 सुशील गुप्ता ने आज यहां बकरवाल जनजाति के 25 बच्चों को सुखद अनुभूति का अहसास कराया ।

      भेड़ बकरियां चराना इस जनजाति का पेशा है और अपने पेशे की वजह से लोग घूमंतू जीवन बिताते हैं । चारागाहों की तलाश में ये जम्मू-कश्मीर में एक स्थान से दूसरे स्थान को घूमते ही रहे हैं । इस वजह से इनके बच्चों को कोई औपचारिक शिक्षा या स्कूली शिक्षा नहीं मिल पाती । इसलिए, सेना ने इनके वास्ते उत्तरी भारत के भ्रमण का आयोजन किया है ।

      भ्रमण के दौरान बच्चे ऐतिहासिक स्थलों के अलावा करनाल में राष्ट्रीय डेयरी, जलंधर में जेसीटी मिल देखने जाएंगे । इसके अलावा ये बच्चे जम्मू, अंबाला, नई दिल्ली और आगरा भी जाएंगे ।

      ये बच्चे 13 से 16 वर्ष की आयु के हैं । ले0 जन0 गुप्ता के साथ बातचीत के दौरान इन बच्चों ने बताया कि उन्हें पहली बार ट्रेन से यात्रा करने का मौका मिला है । उन्हें मेट्रो रेल और ऐतिहासिक जगहों को देखकर बहुत अच्छा लगा है । अब वे ताजमहल देखना चाहते हैं ।

      ले0 जन0 गुप्ता ने बच्चों से राष्ट्र हित में काम करने को कहा ।

 

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

नाम निर्देशन पत्र प्राप्त करने की आज अंतिम तारीख आज 17 उम्मीदावरों ने नाम निर्देशन पत्र दाखिल किये

14 स्थान कंटेनमेंट जोन से मुक्त

कवल वन्यजीव अभयारण्य में वन भूमि का अतिक्रमण