कारगिल युध्द से प्रभावित घूमंतू बच्चों के कल्याण के लिए कार्य योजना

कारगिल युध्द से प्रभावित घूमंतू बच्चों के कल्याण के लिए कार्य योजना

कारगिल से आए बच्चों ने श्रीमती रेणुका चौधरी से मुलाकात की

      महिला और बाल विकास मंत्री श्रीमती रेणुका चौधरी ने कहा कि उनका मंत्रालय जम्मू -कश्मीर राज्य में कारगिल युध्द और अन्य आतंकवादी घटनाओं से प्रभावित घूमंतू बच्चों के कल्याण के लिए भारतीय सेना के साथ् परामर्श से एक कार्ययोजना तैयार करेगा ।

      श्रीमती चौधरी ने राज्य के प्रभावति  बच्चों को आधारभूत सेवाएं उपलब्ध कराने के लिए अपने मंत्रालय की ओर से सभी प्रकार की आवश्यक सहायता का आश्वासन दिया ।

      कारगिल के 25 बच्चों और उनके साथ आए कुछ अभिभावकों ने श्रीमती चौधरी के आवास पर नाश्ते के दौरान बातचीत की । इस समूह में वैसे घूमंतू बच्चे शामिल हैं जिनका परिवार प्रत्येक वर्ष गर्मी के मौसम में लगभग 4-5 महीने तक द्रास क्षेत्र में ठहरता है और वर्ष के शेष समय में से नीचे की पहाड़ियों और मैदानों में ठहरता हैं ।

      इस कारण इन बच्चों की पढार्ऌ में बाधा आती है क्योकि जहां ये बच्चे गर्मी के मौसम में ठहरते हैं वहां लगभग 40 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में कोई स्कूल उपलब्ध नहीं है। भारतीय सेना में इन बच्चों के लिए अचल और सचल स्कूल भी स्थापित किए हैं । जहां वे अपने प्रवास के दौरान शिक्षा पाते हैं । ये स्कूल उन्हें पहली से लेकर आठवीं कक्षा तक शिक्षा प्रदान करते हैं । ये स्कूल राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद द्वारा मान्यता प्राप्त हैं और उनके मार्गनिर्देशों से जुड़े हैं ।

      ये बच्चे देश की 14 दिवसीय यात्रा पर हैं । इन्होंने श्रीमती चौधरी को बताया कि वे लोग अपनी यात्रा से बहुत खुश हैं और अब वे आगरा, फगवाड़ा और देश के कुछ अन्य शहरों को भी देखेंगे ।

 

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

6 हजार 284 आंगनवाड़ी केन्द्रों से 4 लाख 55 हजार 238 बच्चे, गर्भवती महिलायें और धात्री माताओं को पोषण आहार से लाभान्वित

वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से 26 सितम्बर को स्थाई एवं निरंतर लोक अदालत का आयोजन

मतदाता जागरूकता के लिए रंगोली प्रतियोगिता का आयोजन