मंगलवार, 15 सितंबर 2020

जिला जेल मुरैना में वीडियो कॉन्‍फेंस के माध्यम से किया गया, निरीक्षण एवं नालसा योजना नशा वर्चुअल के माध्यम से दी गई विधिक जानकारियां

Sanjay gupta(manil) Morena/  जिला न्यायाधीश एवं जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के अध्यक्ष श्री सुबोध कुमार जैन के मार्गदर्शन में अपर जिला न्यायाधीश एवं जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के सचिव श्री व्ही.के. गुप्ता ने सोमवार को जिला जेल मुरैना में वीडियों कॉफ्रेंस के माध्यम से निरीक्षण, वर्चुअल ई-कैम्प किया। जिला जेल मुरैना में स्थित बंदियों के बारे में जानकारी ली गई, जिसमें अधीक्षक जिला जेल मुरैना द्वारा 310 बंदी होना बताया। इन सभी बंदियों को वर्चुअल के माध्यम से नालसा योजना, नशा पीडि़तो को नशा मुक्त करने संबंधी एवं विधिक सेवायें संबंधी जानकारी दी गई।
    अपर जिला जज श्री व्हीके गुप्ता ने नालसा नशा पीडि़तों को विधिक सेवाऐं एवं नशा उन्मूलन के लिए विधिक सेवाऐं योजना 2015 के अंतर्गत विधिक सेवा संस्थायें, जेल के कैदियों एवं जेल स्टाफ के लिए स्वापक औषधियों के विषय के संबंध में जानकारी दी। जेल में आने वाले नए बंदियों को अलग से बैरिक में रखने के निर्देश दिए। उन्होंने कोविड-19 कोरोना वायरस के फैलते संक्रमण से बचाव के संबंध में बताया कि अपने हाथों को अच्छी तरह से साबुन से धोऐं एवं अपने चेहरे को हाथों से छूने से बचे तथा कम से कम 2 मीटर की दूरी बनाकर रखे। जिससे कोरोना वायरस संक्रमण फैलने का खतरा कम रहें। जेल परिसर को समय-समय पर सेनेटाइजेशन कराया जावे। वीडियो क्रॉफ्रेंस के माध्यम से बंदियों से दैनिक दिनचर्या में उपयोग होने वाली मूलभूत सुविधाओं के बारे में चर्चा की गई। जिस पर कुछ बंदियों द्वारा मूलभूत सुविधा जैसे-लाईट, पानी आदि सही होना बताया। उन्होंने बंदियों को बताया गया कि ऐसे बंदी जिनके प्रकरण न्यायालय में विचाराधीन है और उन प्रकरणों में न्यायालयीन पैरवी करने हेतु अधिवक्ता नहीं है ऐसे बंदी अपने आवेदन जेल अधीक्षक, लीगल एड क्लीनिक के  माध्यम से अपने आवेदन सचिव, जिला विधिक सेवा प्राधिकरण मुरैना को भिजवाये जा सकते है साथ ही उपस्थित समस्त बंदियों को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से बंदियों के अधिकार के बारे में विस्तृत रूप से जानकारी दी। 

कोई टिप्पणी नहीं: