कलेक्टर द्वारा रोजगार गारंटी योजना के कार्यों का निरीक्षण

कलेक्टर द्वारा रोजगार गारंटी योजना के कार्यों का निरीक्षण

संजय गुप्‍ता(मांडिल) ब्‍यूरो चीफ मुरैना मुरैना 25 अप्रेल 08/ कलेक्टर श्री आकाश त्रिपाठी ने आज मुरैना जनपद के ग्राम ऐंती और गड़ाजर में पहुंच कर वहां राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी स्कीम म.प्र. के तहत संचालित निर्माण कार्यों का निरीक्षण किया । निरीक्षण के दौरान मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत श्री अभय वर्मा और कार्यपालन यंत्री ग्रामीण यांत्रिकी सेवा श्री डी.एस. यादव साथ थे ।
ग्राम ऐंती में कलेक्टर ने 4 लाख 90 हजार रूपये की लागत से निर्माणाधीन मिट्टी मुरम कार्य और 3 लाख 74 हजार रूपये की लागत के खरंजा निर्माण कार्य का जायजा लिया । इन कार्यो पर 30 मजदूर कार्यरत मिले । ग्राम में सभी ग्रामीण परिवारों को जॉव कार्ड का वितरण किया जा चुका है और सभी कार्डों पर फोटो भी चस्पा हो गये हैं । योजना के निर्देशों के तहत कार्य स्थल पर निर्माण कार्य से संबंधित बोर्ड लगा हुआ पाया गया तथा विभिन्न स्तरों पर कार्य की फोटो ग्राफी भी कराई जा रही है । मजदूरों को नियमित रूप से मजदूरी का भुगतान कराया जा रहा है । मजदूर आशाराम को आज अपनी सात दिन की मजदूरी के भुगतान के रूपये 483 रूपये का चैक प्राप्त हुआ । कलेक्टर श्री त्रिपाठी ने जॉव कार्ड और मस्टररोल का निरीक्षण किया और कार्य की प्रगति पर संतोष व्यक्त किया । उन्होंने गडाजर में ढाई लाख रूपये की लागत से संचालित खरंजा निर्माण कार्य का भी अवलोकन किया । इस कार्य पर 10 मजदूर कार्यरत हैं ।
कलेक्टर ने कहा कि इस योजना के अंतर्गत जिले के किसी भी ग्राम का जॉव कार्ड धारी व्यक्ति जिले के किसी भी गांव में कार्य कर सकेगा । उन्होंने बताया कि योजना के अंतर्गत सी.सी.खरंजा निर्माण के कार्य भी लिये जा सकते हैं, लेकिन इसके लिए निर्माण लागत की पचास प्रतिशत राशि ग्राम पंचायत की मूल-भूत राशि अथवा 12 वें वित्त आयोग की राशि से देनी होगी । उन्होंने ग्राम ऐंती में प्राकृतिक झरना के पानी को संरक्षित रखने के उपाय करने के निर्देश दिए।
विदित हो कि राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी स्कीम म.प्र. के अन्तर्गत मुरैना जिले में लगभग चार सौ करोड़ रूपये के 26 हजार हितग्राही मूलक और सामुदायिक कार्यों की स्वीकृति जारी की गई है । संचालित कार्यों पर करीब सात सौ मजदूरों को रोजगार प्राप्त हो रहा है । स्वीकृत कार्य ग्राम स्तरीय निगरानी समिति की देख रेख में कराये जा रहे हैं । इन कार्यों पर ठेकेदारों एवं बिचौलियों और मशीनों के उपयोग पर पूरी तरह से रोक है । मजदूरी का भुगतान जॉव कार्डधारी मजदूर को एकांउट पेयी चैक के माध्यम से कराया जा रहा है ।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

6 हजार 284 आंगनवाड़ी केन्द्रों से 4 लाख 55 हजार 238 बच्चे, गर्भवती महिलायें और धात्री माताओं को पोषण आहार से लाभान्वित

नाम निर्देशन पत्र प्राप्त करने की आज अंतिम तारीख आज 17 उम्मीदावरों ने नाम निर्देशन पत्र दाखिल किये

वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से 26 सितम्बर को स्थाई एवं निरंतर लोक अदालत का आयोजन