अच्छी फसल के लिए मिट्टी परीक्षण जरूरी

अच्छी फसल के लिए मिट्टी परीक्षण जरूरी
श्री महेन्द्र सिंह यादव द्वारा कृषि विज्ञान मेला का शुभारंभ
संजय गुप्‍ता(मांडिल) मुरैना ब्‍यूरो चीफ मुरैना 2 जून 08/ राज्य बीज एवं फार्म विकास निगम के अध्यक्ष श्री महेन्द्र सिंह यादव ने आज यहां आंचलिक कृषि अनुसंधान केन्द्र में आयोजित पांच दिवसीय कृषि विज्ञान मेला का शुभारंभ किया और कहा कि अच्छी फसल के लिए मिट्टी परीक्षण जरूरी है । किसान अपने खेत की मिट्टी का परीक्षण कराने के उपरांत ही परीक्षण परिणाम के आधार पर खाद आदि का उपयोग करें । इस अवसर पर एम.पी.एग्रो के अध्यक्ष श्री मुंशी लाल, समाज सेवी श्री नागेन्द्र तिवारी, किसान संघ के अध्यक्ष श्री रामाधार शर्मा, कृषि अनुसंधान केन्द्र के निर्देशक डा. वाय.एम.कूल, उप संचालक किसान कल्याण एवं कृषि विभाग श्री वी.डी. शर्मा तथा अन्य विभागीय अधिकारी और बड़ी संख्या में कृषकगण उपस्थित थे ।
श्री महेन्द्र सिंह यादव ने कहा कि लगातार रासायनिक खाद के उपयोग से खेत की उर्वरा शक्ति प्रभावित हुई है और पैदावार पर भी प्रतिकूल असर पड़ रहा है । इसके लिए जरूरी है कि खेत की मिट्टी का परीक्षण कराया जाय और इस परीक्षण के अनुशंसाओं के आधार पर ही खेतों में कम हो रहे पोषक तत्वों की भरपाई की जाय। उन्होंने कहा कि मध्य प्रदेश में गांव गरीब और किसान की सरकार है । मुख्यमंत्री स्वयं किसान हैं और किसान की पीड़ा को समझते हैं । उनकी मंशा है कि खेती को लाभ का धंधा बनाया जाय । इसके लिए प्रदेश में किसान आयोग का गठन किया गया है । जो क्षेत्र का भ्रमण कर सरकार सरकार को अपने सुझाव देगा । उन्होंने आशा व्यक्त की कि इस मेला में मिली जानकारी का किसान लाभ उठायेंगे और खेती को लाभ का धंधा बनाने की दिशा में अग्रसर होंगे । उन्होंने देवी सरस्वती के चित्र पर माल्यार्पण और दीप प्रज्ज्वलित कर मेला का शुभारंभ किया ।
एम.पी.एग्रो के अध्यक्ष श्री मुंशी लाल ने कहा कि भारत किसानों का देश है और देश की समृध्दि किसानों की खुशहाली पर ही निर्भर है । उन्होंने कहा कि बीहड़ों के कटाव और अन्य कारणों से खेती का रकवा घटता जा रहा है तथा खेती घाटे का धंधा बनती जा रही है। मुख्यमंत्री ने इसकी चिंता की है और प्रदेश में पहलीबार किसानों की पंचायत बुलाकर किसानों के सुझाव प्राप्त किये हैं । समारोह को श्री नागेन्द्र तिवारी ने भी सम्बोधित किया ।
प्रारंभ में उप संचालक कृषि श्री वीडी शर्मा ने मेला के उद्देश्य पर प्रकाश डाला और अतिथियों का स्वागत किया । उन्होंने कृषि विकास योजनाओं की विस्तृत जानकारी दी ।
विदित हो कि आगामी 6 जून तक चलने वाले इसमेला में मिट्टी के नमूनों की जांच की नि:शुल्क व्यवस्था के साथ ही उन्नत बीज, बीजोपचार औषधि , उर्वरक , पौध संरक्षण यंत्र एवं कृषि उपकरणों की प्रदर्शनी के अलावा अन्य विभागों द्वारा संचालित योजनाओं की प्रदर्शनी भी लगाई गई है । मेले में कृषि बैज्ञानिकों द्वारा किसानों की समस्याओं का समाधान किया जायेगा और किसान क्रेडिट कार्ड बनाने की कार्रवाई की जायेगी ।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

6 हजार 284 आंगनवाड़ी केन्द्रों से 4 लाख 55 हजार 238 बच्चे, गर्भवती महिलायें और धात्री माताओं को पोषण आहार से लाभान्वित

वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से 26 सितम्बर को स्थाई एवं निरंतर लोक अदालत का आयोजन

मतदाता जागरूकता के लिए रंगोली प्रतियोगिता का आयोजन