विद्युत विभाग के लाईनमेन सहित अन्य ग्रामीण क्षेत्र के विद्युत कर्मियों की भर्ती की प्रक्रिया शुरू - डॉ. गौरीशंकर शेजवार

विद्युत विभाग के लाईनमेन सहित अन्य ग्रामीण क्षेत्र के विद्युत कर्मियों की भर्ती की प्रक्रिया शुरू - डॉ. गौरीशंकर शेजवार
संजय गुप्‍ता/मांडिल/ मुरैना ब्‍यूरो चीफ मुरैना 19 फरवरी 08ऊर्जा मंत्री श्री गौरी शंकर शेजवार ने जबलपुर में विद्युत आपूर्ति संबंधी बैठक में बताया कि ग्रामीण क्षेत्र के विद्युत कर्मियों विशेषकर लाईन स्टाफ की कमी को दूर कर नई नियुक्तियां किये जाने की प्रक्रिया प्रारंभ कर दी गई है। उन्होंने बताया कि चार वर्षों में विद्युत आपूर्ति व्यवस्था में सुधार हुआ है तथा किसानों को विद्युत आपूर्ति का समय भी बढ़ा है।
उर्जा मंत्री गौरीशंकर शेजवार ने विद्युत मण्डल के अधिकारियों से कहा है कि वे जनता के चुने हुए नुमाइंदों द्वारा बताई गई बिजली सम्बंधी समस्याओं का तत्काल निराकरण सुनिश्चित करें। उन्होंने प्रदेश में पिछले साढ़े चार साल के दौरान बिजली की आपूर्ति में हुए सुधार के लिए विद्युत मण्डल के अधिकारियों की सराहना करते हुए कहा कि केन्द्र शासन से अपेक्षित सहयोग न मिलने के बावजूद हम किसानों और उद्योगों को पर्याप्त बिजली आपूर्ति करने में कामयाब हुये हैं।
उर्जा मंत्री ने बैठक में बताया कि पिछले साढ़े चार सालों के दौरान प्रदेश में बिजली की खपत में करीब 18 प्रतिशत वृध्दि हुई है इसके बावजूद प्रदेश में मांग और आपूर्ति के बीच सामंजस्य बनाने में सरकार सफल रही है। उन्होंने कहा कि आम जनता भी प्रदेश में विद्युत के क्षेत्र में हुये सुधार को महसूस कर रही है। पहले की और आज की स्थिति में काफी परिवर्तन हुआ है। श्री शेजवार ने कहा कि इन साढ़े चार वर्षों में किसानों को सिंचाई हेतु न केवल विद्युत आपूर्ति का समय बढ़ा है बल्कि विद्युत आपूर्ति की गुणवत्ता में भी सुधार हुआ है और अब बिजली आपूर्ति में बीच-बीच में आने वाले अवरोध की समस्या भी दूर कर दी गई है। उर्जा मंत्री ने बैठक में प्रदेश में बिजली की मांग और आपूर्ति के अंतर को दूर करने के प्रयासों, विद्युत उत्पादन में हुई वृध्दि की जानकारी बैठक में जनप्रतिनिधियों के समक्ष रखी।
डॉ. शेजवार ने अधिकारियों को सांसद निधि, विधायक निधि, विशेष घटक योजना एवं आदिवासी उपयोजना से स्वीकृत कार्यों को शीघ्र पूरा करने के निर्देश देते हुए कहा कि किसी भी हालत में इन मदों से स्वीकृत कार्य लंबित न रहें। उर्जा मंत्री ने राजीव गांधी ग्रामीण विद्युतीकरण योजना के तहत स्वीकृत कार्यों में ठेकेदारों द्वारा बरती जा रही लापरवाही पर अधिकारियों को कड़ी कार्रवाई करने के निर्देश दिये। उन्होंने अधिकारियों से कहा कि वे खुद इन कार्यों पर निगरानी रखें और विलंब की स्थिति में ठेकेदारों को ब्लेक लिस्टेड करने के बाद विभागीय तौर पर ये काम करायें।
उर्जा मंत्री ने बैठक में बिजली चोरी के प्रकरणों में अधिकारियों से सख्ती बरतने के निर्देश दिये लेकिन यह भी हिदायत दी कि ऐसे प्रकरणों में विद्युत खपत का अनुमान वास्तविकता को ध्यान में रखकर ही लगाया जाये। उन्होंने कहा कि कई बार निचले स्तर के अधिकारियों द्वारा बिजली चोरी के मामाले में वास्तविकता के विपरीत बढ़ चढ़कर बिलिंग कर दी जाती है और यदि उपभोक्ता गरीब है तो उसे इस वजह से कई तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ता है। श्री शेजवार ने गरीब उपभोक्ताओं के विरूध्द विद्युत चोरी के मामले में अनुमानित विद्युत खपत का वरिष्ठ अधिकारियों से पुन: परीक्षण कराने की व्यवस्था की जरूरत बताई।
उर्जा मंत्री ने बैठक में कहा कि ग्रामीण क्षेत्र के विद्युत कर्मियों खास तौर पर लाईन स्टाफ की कमी को दूर करने के लिये नई नियुक्तियों की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। श्री शेजवार ने विद्युत अधिकारियों को जनप्रतिनिधियों द्वारा बताई गई ऐसी समस्याओं से जिन्हें स्थानीय स्तर पर ही हल किया जा सकता है शीघ्र निराकृत करने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि जिन अधिकारियों के विरूध्द बैठक में शिकायतें मिली हैं उन्हें तत्काल वर्तमान पदस्थापना स्थल से हटाकर अन्य स्थानों पर पदस्थ किया जाये।
ऊर्जा मंत्री ने बैठक में मौजूद सभी जनप्रतिनिधियों को उनके द्वारा बताई गई समस्याओं के शीघ्र निराकरण का आश्वासन देते हुए संभाग स्तर पर आयोजित इस तरह की बैठकों के नियमित आयोजन पर विचार करने की बात कही। उन्होंने कहा कि जनप्रतिनिधियों और अधिकारियों की संयुक्त बैठकों के माध्यम से क्षेत्र की समस्याओं और जनता की शिकायतों का काफी हद तक निराकरण किया जा सकता है।
उर्जा मंत्री श्री शेजवार ने बैठक में जबलपुर संभाग में बिजली की आपूर्ति से लेकर सांसद एवं विधायक निधि, विशेष घटक योजना तथा आदिवासी उपयोजना से स्वीकृत विद्युत सम्बंधी विकास कार्यों की बिन्दुबार समीक्षा की। बैठक में मध्यप्रदेश में बिजली की मांग एवं आपूर्ति तथा भविष्य की जरूरतों के बारे में पावर प्वाईंट प्रजेंटेशन के माध्यम से जनप्रतिनिधियों को अवगत कराया गया। साथ ही मध्यप्रदेश पावर ट्रांसमिशन कंपनी द्वारा किये गये कार्यों और उपलब्धियों का ब्यौरा भी प्रस्तुत किया गया।
बैठक में विधानसभा अध्यक्ष श्री ईश्वरदास रोहाणी, सांसद राकेश सिंह, श्रीमती नीता पटेरिया सहित अन्य जनप्रतिनिधि तथा अधिकारी उपस्थित थे।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

नाम निर्देशन पत्र प्राप्त करने की आज अंतिम तारीख आज 17 उम्मीदावरों ने नाम निर्देशन पत्र दाखिल किये

14 स्थान कंटेनमेंट जोन से मुक्त

कवल वन्यजीव अभयारण्य में वन भूमि का अतिक्रमण