मुख्यमंत्री कन्यादान योजना :

मुख्यमंत्री कन्यादान योजना :
87 कन्याओं के हाथ पीले,
सर्वजातीय विवाह सम्मेलन सम्पन्न
संजय गुप्‍ता (मांडिल) मुरैना ब्‍यूरो मुरैना 09 मार्च 08/ प्रदेश सरकार की कन्याओं के संबंध मे विशेष पहल में से एक मुख्यमंत्री कन्यादान योजना के अन्तर्गत मुरैना जिले की जौरा कृषि उपज मण्डी प्रांगण में सर्वजातीय विवाह सम्मेलन के दौरान विभिन्न जनपदों के 87 जोड़े परिणय सूत्र में बंधें । सम्मेलन को सफलता पूर्वक और उल्लास भरे वातावरण में सम्पन्न कराते हुए योजनान्तर्गत 4 लाख 35 हजार रूपये की राशि के जोडों को गृहस्थी की सामग्री और आभूषण हेतु दी गई एवं आयोजकों को 87 हजार रूपये प्रदाय की गई । इस अवसर पर संचालक कृषि मंडी श्री सूबेदार सिंह रजौधा, मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत श्री अभय वर्मा, उप संचालक पंचायत एवं सामाजिक न्याय श्री बाथम, अनुविभागीय अधिकारी राजस्व श्री आर.पी.एस. जादौन, पहाडगढ़ जनपद पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री बी.एल. पटेल एवं जनप्रतिनिधिगण तथा गणमान्य नागरिक उपस्थित थे । उल्लेखित है मुख्यमंत्री कन्यादान योजना के अन्तर्गत मुरैना जिले में अब तक इस वित्त वर्ष में 310 कन्याओं के विवाह सम्पन्न कराये जा चुके हैं । इन विवाहों में 15 लाख 50 हजार रूपये की राशि बर बधू को घरेलू सामग्री के लिए तथा 3लाख 10 हजार रूपये की राशि आयोजकों को व्यवस्थाओं के लिए दी जा चुकी है । इस प्रकार इन शादियों पर कुल 18 लाख 60 हजार रूपये की राशि व्यय की गई है ।
कार्यक्रम में श्री सूबेदार सिंह ने कहा कि बालिकाओं के लिए प्रदेश सरकार की योजनाओं का लाभ सुदूर और ग्रामीण क्षेत्र तक पहुंचाया जाना सुनिश्चित किया गया है ऐसी योजनाओं से व्यापक चेतना फैली है तथा समाज का उत्थान हुआ है ।
जिला पंचायत के सीईओ श्री वर्मा ने कमजोर और पिछडे तथा गरीबी रेखा से नीचे जीवन यापन करने वाले परिवारों के लिए शासन की इस प्रकार की योजनाओं का व्यापक रूप से लाभ हितग्राहियों को दिलाने के संबंध में पंचायत राज्य संस्थाओं व स्थानीय निकायों को अपनी सशक्त भूमिका का निर्वहन करते रहने के लिए कहा । उल्लेखनीय है कि कन्याओं को बराबरी का स्थान सुनिश्चित करने के लिए राज्य शासन ने कई योजनाएें प्रारंभ की है । गांव की बेटी योजना के साथ शहरी क्षेत्रों में प्रथम श्रेणी में आने वाली छात्राओं को प्रतिभा किरण योजना का लाभ मिलेगा । अब जन्म से लेकर विवाह तक तथा बाद में प्रसूति के लिए भी विभिन्न योजनाएें हैं । श्री वर्मा ने कहा कि मुख्यमंत्री कन्यादान योजना में कन्या के विवाह की जिम्मेदारी सरकार ने ली है । अब किसी भी गरीब की बेटी बिन व्याही नहीं रहेगी । लाड़ली लक्ष्मी योजना में जन्मी हुई बालिका के नाम से 30 हजार रूपये राष्ट्रीय बचत पत्र दिये जाते है इससे बालिका की पढ़ाई-लिखाई के साथ ही उसकी शादी की चिन्ता से परिवार को मुक्ति मिलती है । इस योजना से कन्याओं को परिवार में बोझ नहीं समझा जायेगा ।
इस सामूहिक विवाह सम्मेलन में रावत समाज के 2, वाथम समाज के 5, कुशवाह समाज के 46, ब्राह्मण समाज के 1, शाक्य समाज के 6, जाटव समाज के 20, धोबी समाज के 2, जोशी समज के 1, नाई समाज 2, खटीक समाज के 2, कडेरा समाज के 1 जोडे का परिणय सम्पन्न हुआ । आयोजन में स्थानीय नागरिकों ने उल्लास के साथ सहभगिता दर्ज की ।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

राज्यपाल ने मंत्रिपरिषद के आठ सदस्यों को शपथ दिलाई

स्थाई जाति प्रमाण पत्र जारी करने के लिए शिविरों का आयोजन

6 हजार 284 आंगनवाड़ी केन्द्रों से 4 लाख 55 हजार 238 बच्चे, गर्भवती महिलायें और धात्री माताओं को पोषण आहार से लाभान्वित