बच्चों की असमय मृत्य को रोका जाय- कलेक्टर

बच्चों की असमय मृत्य को रोका जाय- कलेक्टर
संजय गुप्‍ता (मांडिल) मुरैना ब्‍यूरो चीफ
मुरैना 8 अक्टूबर 08/ कलेक्टर श्री रामकिंकर गुप्ता की अध्यक्षता में आई.एम.एन.सी.आई की कोर कमेटी की बैठक आज सम्पन्न हुई । इस बैठक में मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डा. जनार्दन अतुलकर, जिला महिला एवं बाल विकास अधिकारी श्री प्रदीप राय, भोपाल से आये आर.सी.एच एवं आई.एम.एन सी आई सलाहकार श्री सतीश श्रीवास्तव, जिला टीकाकरण अधिकारी डा. जी.एस. तोमर, यूनीसेफ के डा. पवन पाठक तथा स्वास्थ्य और महिला बाल विकास विभाग के ,खण्ड स्तरीय अधिकारी उपस्थित थे ।
कलेक्टर श्री गुप्ता ने कहा कि विभिन्न जान लेवा बीमारियों के कारण प्रदेश में जन्म से 5 वर्ष तक के 1000 बच्चों में से 74 असमय ही काल कवलित हो जाते हैं । बच्चों की इस असमय मृत्यु को ग्रामीण स्तर पर उचित देखभाल तथा बीमारियों के प्रबंधन के जरिये रोका जा सकता है । आंगनवाड़ी कार्यकर्ता और ए.एन.एम. को चाहिए कि वे ग्रामीण स्तर पर नवजात शिशु एवं बाल्यकाल की बीमारियों की समेकित देख-भाल के लिए ग्रामीणों को जागरूक बनायें । उन्होंने कहा कि इस योजना का उपस्वास्थ्य केन्द्र स्तर तक क्रियान्वयन सुनिश्चित कराना बी.एम.ओ और सी.डी.पी.ओ की संयुक्त जिम्मेदारी होगी । उन्होंने कहा कि आई एम एन सी आई अभियान नहीं, बल्कि एक रणनीति है, जिसका मुख्य उद्देश्य कार्य पध्दति में बदलाव ला कर शिशु मृत्यु दर को कम करना है । उन्होंने अशा व्यक्त की इस योजना के माध्यम से जन्म से 5 वर्ष तक के बच्चों की उचित देखभाल हो सकेगी और इसके परिणाम स्वरूप शिशु मृत्यु दर में भी कमी आ सकेगी ।
आर.सी.एच. और आई एम एन सी आई के सलाहकार श्री सतीश श्रीवास्तव ने सेटेलाइट के माध्यम से इस योजना की जानकारी दी । उन्होंने बताया कि ग्रामीण स्तर पर जन्म से 5 वर्ष तक के बच्चों को विभिन्न जानलेवा बीमारियों से बचाने के लिए यह कार्यक्रम प्रदेश के भिण्ड, मुरैना , ग्वालियर , श्योपुर , दतिया, गुना, शिवपुरी, रतलाम,विदिशा, जबलपुर, शहडोल, सीहोर, कटनी, सतना और भोपाल कुल 15 जिलों में संचालित है इस कार्यक्रम के अन्तर्गत आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं और ए.एन.एम. को बच्चो की बीमारी प्रबंधन का 8 दिवसीय आवासीय प्रशिक्षण दिया जायेगा । प्रशिक्षण प्राप्त कार्यकर्ता बच्चों के बीमार होने पर स्थानीय स्तर पर प्राथमिक उपचार करायेंगीं और गम्भीर बीमारी होने पर बच्चे को चिकित्सालय के लिए रैफर करेंगी ।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

नाम निर्देशन पत्र प्राप्त करने की आज अंतिम तारीख आज 17 उम्मीदावरों ने नाम निर्देशन पत्र दाखिल किये

14 स्थान कंटेनमेंट जोन से मुक्त

कवल वन्यजीव अभयारण्य में वन भूमि का अतिक्रमण