पोस्ट

अक्तूबर 26, 2008 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

दाऊजी के दर्शनों को उमड़े श्रध्दालु

दाऊजी के दर्शनों को उमड़े श्रध्दालु
साढ़े तीन दिनों तक रहते है मुरैना गांव में भगवान, देश भर में रहते है पट बंद
मुरैना, अक्टूबर। मुरैना गांव में स्थिल दाऊजी मंदिर पर भगवान श्रीकृष्ण द्वारिकापुरी से आगमन हो गया हैं। और वह यहां मंदिर पर साढ़े तीन दिन तक रहेगें। ऐसी यहा मान्यता हैं। कि वे कार्तिक सुदी प्रतिपदा को यहां पर आते है और चतुर्थी को इनका प्रस्थान हो वापस द्वारिकापुरी के लिए हो जाता हैं। प्रात: दाऊजी मंदिर भगवान की पूजा अर्चना के साथ ही लीला मेला शुरु हो गया। मेले में आज ग्रामीण क्षेत्रों से सैकड़ों लोग भगवान के दर्शन करने को आए। इन लोगों ने दाऊ जी महाराज का प्रसाद चढ़ाकर अपने परिवार की कुशलता की कामना की। मेले में लगने वाली दुकानों पर ग्रामीण अंचलों से आए लोगों ने ही खरीददारी की। यहां पर खेल - खिलौने तथा सौंदर्य प्रशाधन की दुकानें सजी हुई हैं। महिलाओं की भीड़ खासकर इन सौंदर्य प्रशाधन वाली दुकानों पर ही अधिक दिखाई दे रही थी। इसके अलावा बच्चें खिलौनों के लिए जिद करते हुए देखे गए। मेले के एक छोर पर मंनोरंजन के लिए हवाई झूलों के साथ खेल - तमाशे बाले भी आए हुए हैं। मेलें आए हुए युवक - युवतिय…

भाईदूज पर बहिनों ने लगाया भाईयों के माथे पर तिलक

भाईदूज पर बहिनों ने लगाया भाईयों के माथे पर तिलक
मुरैना, अक्टूबर। आज भाईदूज पर बहिनों ने किया भाई के माथे पर तिलक कर मिठाई खिलाकर कर लम्बी उम्र की कामना की। दीपावली के तीसरे दिन बहिन - भाई का त्यौहार भाई दूज बड़े हर्षोल्लास से मना सुबह से ही बहिने अपने भाई को टीके करने के लिए घर में तैयारियां आरंम्भ कर दी। भाई दौज के दिन सुबह से ही बसों व ट्रेनों में भारी भीड़ आ जा रही थी। ट्रेनों में भीड़ अधिक होने के कारण महिलाओं और बच्चों का कॉफी मुश्किलों का सामना करना पढ़ा।
इस दिन बहिन वृत रखती है। अपने भाईयों का इन्तजार करती है। घर में विभिन्न प्रकार के स्वाष्टिक पकवान बनाऐं जाते हैं। घर की बड़ी महिलाऐं दौज पर कहानी सुनाती है। कहानी सुनाने के बाद पटे पर खड़े कर के भाईयों के माथे पर तिलक करती हैं। बहिनों के तिलक करने के उपरांत भाई बहिनों को उपहार देते हैं। इस अवसर पर मुरैना उपजैल में बन्द कैदी भाईयों से मिलने के लिए भारी संख्या में पहुंची बहिनों के लिए जैल प्रशासन ने खास इंतजाम किये। बहिनों ने अपने बंदी भाईयों के माथे पर जब तिलक लगाया तो जैल में बंद भाईयों की आंखे नम हो गई। उन्हें अपनी करनी पर पक्षतावा …

महाराजा महासेन जयंती समारोह दो नवम्बर को

महाराजा महासेन जयंती समारोह दो नवम्बर को
मुरैना, अक्टूबर। अखिल भारतीय माहौर ग्वार्रें वैश्य महासभा द्वारा समाज के कुल प्रवतक श्री श्री 1008 महाराजा महासेन जी की जयंती समारोह दो नवम्बर रविवार कार्तिक शुक्ला पंचमी को मानसरोवर पैलेस मुरैना में अयोजित किया जायेगा। इस कार्यक्रम में विभिन्न प्रतियोगितायें एवं सांस्कृतिक कार्यक्रम के साथ - साथ प्रभात फेरी का भी आयोजन किया जायेगा। इस बात की जानकारी माहौर ग्वार्रें वैश्य महासभा के प्रवक्ता भरत चांदिल ने एक प्रेस विज्ञप्ति के माध्यम से दी।
भरत चांदिल ने बताया कि महाराज महासेन की जयंती समारोह पर निकाली जाने वाली प्रभातफेरी प्रात: छह बजे काशीबाई धर्मशाला मुरैना से प्रारंभ होकर शहर के मुख्य मार्गो से भ्रमण करती हुई कार्यक्रम स्थल मानसरोवर स्थल मुरैना पर सम्पन्न होगी। तत्पश्चात सामूहिक रुप से पूजन किया जायेगा। उसके बाद अखिल भारतीय माहौर ग्वार्रें वैश्य महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष मोहनचन्द्र बांदिल द्वारा झण्डावंदन एवं दीप प्रज्जवलित कर कार्यक्रम विधिवत प्रारंभ कर दिया जायेगा। इस अवसर पर समाज के समस्त सामाजिक संगठन महासभा, नगरशाखा, महिला मण्डल, वाचना…