पुलिस, जेल और होमगार्डस् के जवान और अफसर पदकों से अलंकृत

पुलिस, जेल और होमगार्डस् के जवान और अफसर पदकों से अलंकृत

मुख्यमंत्री ने सात पुलिस अफसरों को रिवाल्वर तथा तीन बहादुरों को शौर्य पुरस्कार दिए

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने आज मोतीलाल नेहरू स्टेडियम में आयोजित स्वाधीनता समारोह में विशिष्ट और सराहनीय सेवा के लिए मध्यप्रदेश पुलिस और होम गार्डस के 44 जवानों और अफसरों को राष्ट्रपति का पुलिस पदक प्रदान किया। इनमें भारतीय पुलिस सेवा के 11 अधिकारी शामिल हैं। उन्होंने डकैतों के सफाए में साहस और सूझबूझ दिखाने वाले भारतीय पुलिस सेवा के सात अधिकारियों को रिवाल्वर प्रदान कर सम्मानित किया। इनके अलावा मुख्यमंत्री ने आठ अधिकारियों को जेल विभाग का सुधारात्मक सेवा पदक भी दिया। उन्होने अदम्य साहस के लिए अशरफ बच्चा (मरणोपरांत) तथा दो अन्य लोगों को महाराणा प्रताप शौर्य पुरस्कार प्रदान किया।

कुख्यात डकैत गिरोहों के सफाए में योगदान के लिए सम्मान स्वरूप रिवाल्वर पाने वालों में ग्वालियर रेंज के तत्कालीन आईजी श्री सरबजीत सिंह, चम्बल रेंज के तत्कालीन आईजी श्री विजय यादव, डीआईजी चम्बल श्री डी.सी. सागर, डीआईजी ग्वालियर श्री आदर्श कटियार, शिवपुरी के तत्कालीन पुलिस अधीक्षक श्री साजिद फरीद शापू, मुरैना के पुलिस अधीक्षक डॉ. हरिसिंह यादव और ग्वालियर के तत्कालीन पुलिस अधीक्षक श्री संजीव शमी शामिल हैं।

भारतीय पुलिस सेवा के जिन 11 अधिकारियों को पदक दिए गए उनमें विशिष्ट सेवा के लिए अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक दूरसंचार श्री सुदर्शन कुमार और खरगोन रेंज के डीआईजी श्री एन.एल. डोंगरे को पदक दिया गया हैं । सराहनीय सेवा के लिए लिए राष्ट्रपति का पुलिस पदक प्राप्त करने वाले अधिकारियों में चम्बल रेंज के आईजी श्री अरविन्द कुमार, बालाघाट रेंज के आईजी श्री अन्वेष मंगलम, डीआईजी चयन श्री अजय कुमार शर्मा, डीआईजी इंटेलीजेंस श्री संजय माने, अवर सचिव (डीआईजी), गृह श्री एस.डब्ल्यू. नकवी, डीआईजी उज्जैन श्री विपिन कुमार माहेश्वरी, डीआईजी छतरपुर श्री विजय कटारिया, डीआईजी प्रशासन श्री बी.बी. शर्मा और रायसेन के पुलिस अधीक्षक के.सी. जैन शामिल हैं।

विशिष्ट सेवा के लिए राष्ट्रपति का पुलिस पदक भोपाल जिला बल के प्रधान आरक्षक श्री तिलबहादुर थापा को दिया गया। सराहनीय सेवा के लिए राष्ट्रपति का पुलिस पदक पाने वाले पुलिस अधिकारियों और जवानों में एसपी रेडियों जबलपुर श्री मोहम्मद शरीफ खॉ, डीएसपी सीआईडी श्री महेन्द्र सिंह ठाकुर, विशेष शाखा के निरीक्षक श्री मोहन लाल गुप्ता, निरीक्षक (एम) डॉ. सत्य नारायण सोनी, कंपनी कमांडर श्री राजेन्द्र सिंह भदोरिया, सूबेदार (एम) श्रीमती मीना गोधवानी, उप निरीक्षक (एम) श्री अजय कुमार, सहायक उप निरीक्षक (एम) राजेन्द्र सिंह ठाकुर, प्रधान आरक्षक श्री पंचमलाल मालवीय, प्रधान आरक्षक हंसराज बिष्ट, प्रधान आरक्षक सैयद जफर खान, प्रधान आरक्षक जय नारायण सोनी, प्रधान आरक्षक निरंजन सिंह राजपूत, आरक्षक सुरेन्द्र सिंह चौहान, वरिष्ठ आरक्षक चन्द्रसेन पांडे, आरक्षक बद्रीप्रसाद पांडे, आरक्षक बंसीधर पटेल, आरक्षक रामवीर सिंह रघुवंशी, आरक्षक जगदीश प्रसाद गौर, आरक्षक प्रेमलाल जाट, आरक्षक चन्द्र सिंह परमार और आरक्षक दीनदयाल तिवारी शामिल हैं।

विशिष्ट सेवा और सराहनीय सेवा के लिए राष्ट्रपति का होमगार्ड पदक पाने वालों में देवास के कमांडेन्ट श्री मनोहर लाल हनोतिया, जबलपुर के कमांडेन्ट श्री भूपेन्द्र सिंह मरकाम, इंदौर के कमांडेन्ट श्री विशद तिवारी, बैतूल के कंपनी कमाण्डर श्री टीकाराम चौहान, जबलपुर और इन्दौर के इंस्पेक्टर (एम) श्री सुशील कुमार तिवारी और रविन्द्र कुमार घुणे, प्लाटून कमांडर रामकुमार तिवारी, फोटो ग्राफर संजय सक्सेना, हवलदार श्री राम राजपूत और महावीर प्रसाद पांडे, वाहन चालक फखरूद्दीन, स्वयं सेवी हवलदार बद्रीलाल और स्वयं सेवी सैनिक के.के. शुक्ला शामिल हैं। जेल विभाग के वरिष्ठ परिवीक्षा एवं कल्याण अधिकारी अनिल कुमार ंसिह परिहार, जेलर विजय बहादुर गेहरवार, जेलर नरेन्द्र सिंह ठाकुर, जेलर जे.एन. सिंह बघैल, उप जेलर पी.डी. कुशवाल और मणीशंकर पाल को जेल विभाग का सुधारात्म पदक तथा डीआईजी जेल श्री ए.के. खरे को जेल विभाग का विशिष्ट सेवा पदक मुख्यमंत्री ने प्रदान किया।

अदम्य साहस और वीरता के लिए स्वगीर्य अशरफ बच्चा को मरणोपरांत दिया गया वर्ष 2006 का महाराणा प्रताप शौर्य पुरस्कार और पचास हजार रूपये नकद उनकी पत्नी श्रीमती शहनाज बानो ने मुख्यमंत्री से ग्रहण किया। मुख्यमंत्री ने पन्ना जिले के रमेश चन्द्र सिंगरोल और श्री नन्द किशोर सिंगरोल को भी महाराणा प्रताप शौर्य पुरस्कार तथा 25-25 हजार रूपये राशि प्रदान की। सहायक पुलिस महानिरीक्षक श्री मनमीत नारंग ने पदक वितरण की कार्यवाही का संचालन किया।

 

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

नाम निर्देशन पत्र प्राप्त करने की आज अंतिम तारीख आज 17 उम्मीदावरों ने नाम निर्देशन पत्र दाखिल किये

14 स्थान कंटेनमेंट जोन से मुक्त

कवल वन्यजीव अभयारण्य में वन भूमि का अतिक्रमण