मतदान के समय मतदाता की थर्मल स्क्रीनिंग की जायेगी, टैम्प्रेचर ज्यादा होने पर मतदाता अंतिम एक घण्टे में मतदान करेंगे

  संजय गुप्‍ता मांडिल, ब्‍यूरो मुरैना/ कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी श्री अनुराग वर्मा ने बताया कि निर्वाचन आयोग द्वारा विधानसभा उप निर्वाचन हेतु जारी कार्यक्रम अनुसार 09 अक्टूबर को विधानसभा उप निर्वाचन के लिए अधिसूचना जारी की जाएगी, 16 अक्टूबर तक नाम निर्देशन पत्र स्वीकार किए जाएंगे, 17 अक्टूबर को नाम निर्देशन पत्रों की जांच होगी, 19 अक्टूबर को फॉर्म वापसी की अंतिम तिथि निर्धारित की गई है। 03 नवंबर को मतदान होगा तथा 10 नवम्बर को मतगणना की जाएगी। यह निर्देश उन्होंने न्यू कलेक्ट्रेट भवन में राजस्व एवं पुलिस अधिकारियों को दिये। इस अवसर पर पुलिस अधीक्षक श्री अनुराग सुजानिया सहित अन्य राजस्व अधिकारी, पुलिस उपस्थित थे।
       जिला निर्वाचन अधिकारी ने कहा कि विधानसभा उप निर्वाचन की प्रक्रिया कोविड-19 संक्रमणकाल में पूरी होना है। शासन द्वारा कोविड-19 की जारी गाईडलाईन का पालन सख्ती से करवाया जाए। उन्होनें कहा कि नाम निर्देशन पत्र जमा करने की ऑनलाईन व्यवस्था रहेगी। अधिकतम दो ही व्यक्ति नाम निर्देशन पत्र जा सकेंगे। डोर-टू-डोर प्रचार-प्रसार हेतु 05 व्यक्तियों को ही अनुमति प्रदान की जाएगी। पांच से अधिक व्यक्ति प्रचार के लिए जाना वर्जित रहेगा। सभी व्यक्तियों को फेस कवर एवं सोशल डिस्टेंस का पालन करते हुए प्रचार कार्य करना होगा। मतदान के दिन केन्द्रों पर कोविड-19 से सुरक्षा के दृष्टिगत पुख्ता इंतजाम किए जाएंगे। एक मतदान केन्द्र पर अधिकतम 1000 मतदाता मतदान कर सकेंगे। मतदान के समय मतदाता की थर्मल स्क्रीनिंग की जायेगी, मास्क उपलब्ध कराया जायेगा। टैम्प्रेचर ज्यादा होने पर मतदाता अंतिम एक घण्टे में  मतदान करेंगे। कोरोना पाजिटिव मरीज को पोस्टल बेलेट उपलब्ध करायें जायेंगे। पॉजीटिव मरीजों को पोस्टल बैलेट से मत देने की व्यवस्था रहेगी। कोविड-19 के पोलिंग एजेंट का टैम्प्रेचर लिया जायेगा, सस्पेक्ट है तो उन्हें नहीं बैठने दिया जायेगा।   

बैठक के पश्चात् राजस्व एवं पुलिस अधिकारियों को ईव्हीएम मशीन का प्रशिक्षण भी दिया
    चुनाव की बैठक के पश्चात् कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी श्री अनुराग वर्मा और पुलिस अधीक्षक श्री अनुराग सुजानिया की उपस्थिति में राजस्व एवं पुलिस अधिकारियों को ईव्हीएम एवं व्हीव्हीपैट मशीन का प्रशिक्षण दिया। जिसमें उन्होंने बताया कि भारत निर्वाचन आयोग के निर्देशानुसार विधानसभा उप निर्वाचन में एम-2 मॉडल की ईव्हीएम के स्थान पर नवीनतम तकनीक से निर्मित एम-3 मॉडल की ईव्हीएम का उपयोग किया जायेगा। उन्होंने बताया कि एम-3 मशीनें एम-2 से बेहतर हैं। पहले एम-2 मशीनों के अंतर्गत कंट्रोल यूनिट के साथ 4 बैलेट यूनिट ही जोड़ सकते थे, लेकिन अब नई मशीनों में 24 बैलेट यूनिट को जोड़ा जा सकेगा। ये मशीनें 384 अभ्यर्थियों तक के लिये सक्षम हैं। 

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

नाम निर्देशन पत्र प्राप्त करने की आज अंतिम तारीख आज 17 उम्मीदावरों ने नाम निर्देशन पत्र दाखिल किये

14 स्थान कंटेनमेंट जोन से मुक्त

कवल वन्यजीव अभयारण्य में वन भूमि का अतिक्रमण