फ्लाई ओवर के बनने से मुरैना के विकास में एक और नया अध्याय जुड़ा- मुख्यमंत्री श्री चौहान मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि मुरैना बैरियर चौराहे पर 108 करोड़ रूपये की लागत से बने फ्लाई ओवर के लोकार्पण

 

संजय गुप्‍ता मांडिल, ब्‍यूरो मुरैना/
    मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि मुरैना बैरियर चौराहे पर 108 करोड़ रूपये की लागत से बने फ्लाई ओवर के लोकार्पण से मुरैना के विकास में एक और नया अध्याय जुड़ गया है। उन्होंने कहा कि मुरैना के विकास में कहीं कोई कोर कसर नहीं छोड़ी जायेगी। मुख्यमंत्री श्री चौहान सोमवार को फ्लाई ओवर के लोकार्पण अवसर पर भोपाल से वेव कास्टिंग के माध्यम से लोकार्पण कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। जिसका सीधा प्रसारण कार्यक्रम स्थल पर एलईडी के माध्यम से देखा गया।   
    कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित केन्द्रीय कृषि, पंचायती राज ग्रामीण विकास मंत्री श्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने कहा कि मुरैना के बेरियर चौराहा पर बने फ्लाई ओवर से जाम की स्थिति से मुक्ति मिल गई और फ्लाई ओवर बन जाने से लोगों की वर्षों पुरानी समस्या खत्म हो गई। सड़क परिवहन और राजमार्ग के केन्द्रीय राज्यमंत्री श्री बीके सिंह ने कहा कि फ्लाई ओवर ब्रिज के बन जाने से मुरैना राष्ट्रीय राजमार्ग पर आवागमन सुगम होगा। राज्य मंत्री श्री सिंह भी दिल्ली से वेव कास्टिंग के माध्यम से फ्लाई ओवर के लोकार्पण कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। लाइव टेलीकास्ट के अवसर पर केन्द्रीय स्पात राज्य मंत्री श्री फग्गन सिंह कुलस्ते, राज्यसभा सांसद श्री ज्योतिरादित्य सिंधिया दिल्ली में मौजूद थे।
    इस अवसर पर प्रदेश के भाजपा अध्यक्ष एवं सांसद श्री विष्णुदत्त शर्मा, किसान कल्याण, कृषि विकास मंत्री की गिर्राज डण्डोतिया, पूर्व मंत्री श्री रूस्तम सिंह, श्री मुंशीलाल भाजपा जिलाध्यक्ष श्री योगेशपाल गुप्ता, पूर्व विधायक श्री रघुराज कंषाना, श्री परसराम मुदगल, चंबल संभाग के कमिश्नर श्री रविन्द्र कुमार मिश्रा, कलेक्टर श्री अनुराग वर्मा, पुलिस अधीक्षक श्री अनुराग सुजानिया, वरिष्ठ नेता केदार सिंह, भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग के पदाधिकारियों सहित बड़ी संख्या में नागरिक उपस्थित थे। 
    लाइव टेलीकास्ट कार्यक्रम के माध्यम से मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि इस कार्यक्रम में केन्द्रीय इस्पात राज्यमंत्री श्री फग्गन सिंह कुलस्ते, राज्यसभा सांसद श्री ज्योतिरादित्य सिंधिया भी जुड़े है। उन्होंने कहा कि मैं सड़क परिवहन एवं पोत मंत्रालय के केन्द्रीय मंत्री श्री नितिन गडकरी और कृषि एवं ग्रामीण विकास मंत्री श्री नरेन्द्र सिंह तोमर को धन्यवाद देता हूं, जिन्होंने 108 करोड़ रूपये की सौगात देकर मुरैना में फ्लाई ओवर का निर्माण कराकर मुरैना के विकास में एक और नया अध्याय जोड़ दिया है। उन्होंने कहा कि 108 करोड़ रूपये की यह अनुपम सौगात से मुरैनावासियों को बहुत सुविधा मिलेगी। उन्होंने कहा कि मुरैना को नगर निगम बनाने, 600 बिस्तर का अस्पताल बनाने, नाला नं. 1 व 2 का निर्माण एवं पाटने का कार्य, शानदार कलेक्ट्रेट भवन का निर्माण करने, भिण्ड में सैनिक स्कूल मुरैना में चंबल से पानी लाने का प्रस्ताव, अंचल में चंबल प्रोग्रेस वे की स्वीकृति, मुरैना में मेडिकल कॉलेज, मुरैना में सड़कों का निर्माण करने और सिंचाई की विभिन्न सुविधाओं को विस्तार करने का काम प्रदेश सरकार ने ही किया है। उन्होंने कहा कि विकास की गाथा को लिखने का काम जारी है।   
  मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि केन्द्रीय मंत्री श्री नरेन्द्र सिंह तोमर का क्षेत्र तो परोसने वाला घर हैं। इसके लिये उनकी मुटठी खुली हुई है। फ्लाई ओवर की सौगात भी नरेन्द्र सिंह तोमर की देन है। उन्होंने कहा कि चंबल अंचल में केन्द्र और राज्य की सरकार की जन कल्याणकारी नीतियां एवं विकास कार्यों की यात्रा जारी रहेगी। यह अंतिम सौगात नहीं है यह तो अभी टेलर है आगे और तरक्की होना है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने केन्द्रीय मंत्री श्री नरेन्द्र तोमर देश और प्रदेश के विकास में निरंतर लगे हुये हैं। कृषि से जुड़े जो तीन बिल पास हुये हैं इससे समुचित कृषि का विकास होगा। यह बिल कृषि को दोगुना करने में मील का पत्थर साबित होंगे। इन बिलों के पास होने से किसानों के हितों में एतिहासिक कार्य हुये हैं। उन्होंने इस अवसर पर केन्द्रीय, सामाजिक एवं अधिकारिता न्याय मंत्री श्री थावर चंद्र गेहलोत को भी धन्यवाद दिया। जिन्होंने ऑनलाइन से ग्वालियर में दिव्यांग परिसर का शिलान्यास करके अदभुत सौगात दी।  
    केन्द्रीय कृषि एवं पंचायत ग्रामीण विकास मंत्री श्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने कहा कि प्रसन्नता का दिन है जब मुरैना के विकास में एक और आयाम जुड़ रहा है। उन्होंने कहा कि हमें अच्छी तरह मालूम है। धौलपुर, आगरा, दिल्ली जाने के लिये बेरियर चौराहे पर घंटों जाम लगा रहता था, इसमें लोगों का समय बर्बाद होता था। वही डीजल पेट्रोल खर्च होता था। अक्सर दुर्घटनायें घटित होती रहती और यह चौराहा ब्लैक स्पाट के रूप में चिन्हित हुआ था। यहां प्रदूषण भी चर्म स्तर पर था। इससे जनता बहुत दुखी थी। लोगों का मुरैना में फ्लाईओवर बनने का सपना पूरा हो गया है। उनकी वर्षों पुरानी समस्या को मुक्ति मिली है। उन्होंने कहा कि मुरैना बेरियर चौराहे पर डेढ़ किलोमीटर लंबे फ्लाई ओवर का निर्माण वर्ष 2017 में स्वीकृत हुआ था, वर्ष 2018 में इसका कार्य 2018 में प्रारंभ हुआ था जो 2020 सितंबर में पूर्ण होकर आज लोकार्पण किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि सड़क परिवहन और राजमार्ग के केन्द्रीय मंत्री श्री नितिन गडकरी अस्वस्थ्य होने के कारण इस कार्यक्रम में हमसे नहीं जुड़ सके। उनकी अनुपस्थिति में केन्द्रीय राज्यमंत्री श्री बीके सिंह का आर्शीवाद मिला है। उन्हें और केन्द्रीय मंत्री श्री गडकरी में प्रदेश सरकार और यहां की जनता जनार्दन की ओर से धन्यवाद देता हूं।
    केन्द्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग राज्यमंत्री श्री बी.के सिंह ने कहा कि देश में सड़कें जरूरी हैं, बेहतर विकास के लिये प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने संकल्प लिया है कि देश में सुगम और सरल राजमार्गों का निर्माण हो। यह कार्य संपूर्ण देश में शुरू हुआ इसमें देश की दशा और दिशा बदल रही है। उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय राजमार्ग 44 पर जाम की स्थिति रहती थी। 2017 में इसके लिये केन्द्रीय मंत्री श्री नरेन्द्र सिंह तोमर के प्रयासों फ्लाई ओवर की स्वीकृति दी गई, जो आज बनकर जनता को समर्पित हो रहा है। उन्होंने कहा कि यह चुनौतिपूर्ण कार्य था जिसे पूर्ण किया है। अब मुरैना के नागरिकों को एक नई सुविधा मिलेगी, दुर्घटना भी कम होगी। इसके पूर्व भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण के क्षेत्रीय प्रबंधक श्री जायसवाल ने कहा कि इस फ्लाई ओवर की लागत 108 करोड़ रूपये है। डेढ़ किलोमीटर लंबे बने इस पुल का अनुबंध 30 जनवरी 2018 को हुआ था, जिसका काम 14 मार्च 2018 को प्रारंभ हुआ। श्री जायसवाल ने कहा कि फ्लाई ओवर की कुल लंबाई एप्रोच सहित 1420 मीटर है। मूल स्ट्रक्चर की लंबाई 780 मीटर है। सर्विस रोड़ की लंबाई 1420 (मार्ग के दोनों ओर एप्रोच) है। फ्लाईओवर के दोनों तरफ 1.42 किलोमीटर लंबाई की ड्रेन का भी निर्माण किया गया है।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

नाम निर्देशन पत्र प्राप्त करने की आज अंतिम तारीख आज 17 उम्मीदावरों ने नाम निर्देशन पत्र दाखिल किये

14 स्थान कंटेनमेंट जोन से मुक्त

कवल वन्यजीव अभयारण्य में वन भूमि का अतिक्रमण