केन्द्रीय विद्यालयों के अध्यापकों के लिए पुरस्कारों की संख्या बढाई जाएगी - श्री अर्जुन सिंह

केन्द्रीय विद्यालयों के अध्यापकों के लिए पुरस्कारों की संख्या बढा जाएगी - श्री अर्जुन सिंह

मानव संसाधन विकास मंत्री श्री अर्जुन सिंह ने कहा कि केन्द्रीय विद्यालयों के अध्यापकों के लिए पुरस्कारों की संख्या बढार्ऌ जा रही है । मंत्री महोदय कल नई दिल्ली में केन्द्रीय विद्यालयों के अध्यापकों और गैर अध्यापन कार्यों से जुड़े कर्मियों को पुरस्कृत करने के बाद समारोह को संबोधित कर रहे थे । मानव संसाधन विकास मंत्री ने सभी क्षेत्रों में केन्द्रीय विद्यालयों की उपलब्धियों पर संतोष जाहिर किया । उन्होंने कहा कि जब तक हमारे पास शिक्षण को अपने जीवन का मिशन मानने वाले समर्पित और कटिबध्द अध्यापक नहीं होंगे, तब तक एक अच्छी शिक्षा प्रणाली का विकास नहीं किया जा सकता । उन्होंने बुनियादी शिक्षा में छात्रों और अध्यापकों के बीच मजबूत रिश्तों पर बल दिया ।

       कल एक भव्य समारोह में केन्द्रीय विद्यालय के 49 अध्यापकों और गैर-अध्यापन कार्य से जुड़े पांच कर्मियों को प्रोत्साहन पुरस्कार प्रदान किए गए । मानव संसाधन विकास मंत्री और केन्द्रीय विद्यालय संगठन के अध्यक्ष श्री अर्जुन सिंह ने ये पुरस्कार प्रदान किए । 54 प्रोत्साहन पुरस्कार प्राप्तकर्ताओं और 13 राष्ट्रीय पुरस्कार प्राप्तकर्ताओं में 36 महिलाएं हैं ।

       मानव संसाधन विकास राज्य मंत्री मोहम्मद ए.ए. फातमी ने अध्यापकों की प्रशंसा करते हुए कहा कि अगला दशक माध्यमिक शिक्षा का होगा और इसमें केन्द्रीय विद्यालय निश्चय ही प्रतिमान निर्धारक की भूमिका निभाएंगे । शिक्षा के महत्व का उल्लेख करते हुए उन्होंने कहा कि शिक्षा ही एक ऐसी ताकत है जो देश में व्याप्त सभी बुराईयों को दूर कर सकती है । इस अवसर पर राज्य मंत्री, श्रीमती डी. पुरन्देश्वरी ने केन्द्रीय विद्यालयों के अध्यापकों से अन्य अध्यापकों के लिए आदर्श बनने का आग्रह किया ।

       केन्द्रीय विद्यालय संगठन के आयुक्त श्री रंगलाल जमुदा ने शिक्षा तथा शिक्षा से जुड़े अन्य क्षेत्रों में केन्द्रीय विद्यालयों की उपलब्धियों का ब्यौरा दिया ।

 

 

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

नाम निर्देशन पत्र प्राप्त करने की आज अंतिम तारीख आज 17 उम्मीदावरों ने नाम निर्देशन पत्र दाखिल किये

14 स्थान कंटेनमेंट जोन से मुक्त

कवल वन्यजीव अभयारण्य में वन भूमि का अतिक्रमण