गृह मंत्री ने सरकारी कामकाज में हिन्दी का इस्तेमाल बढाने का आह्वान किया

गृह मंत्री ने सरकारी कामकाज में हिन्दी का इस्तेमाल बढाने का आह्वान किया

गृह मंत्री ने सरकारी कामकाज में हिन्दी का इस्तेमाल बढाने का आह्वान किया

हिन्दी शिक्षण के नए सॉपऊटवेयर का लोकार्पण

       गृह मंत्री श्री शिवराज पाटिल ने सरकारी कामकाज में हिन्दी का इस्तेमाल और ज्यादा बढाने का आह्वान किया है। हिन्दी दिवस के अवसर पर  आज यहां आयोजित एक समारोह को सम्बोधित करते हुए श्री पाटिल ने कहा कि हालांकि इस दिशा में काफी प्रगति हुई है, लेकिन अभी भी काफी कुछ गुंजाइश है। उन्होंने कहा कि आसान हिन्दी के इस्तेमाल से इसके प्रचार-प्रसार में तेजी आएगी। गृह मंत्री ने हिन्दी के इस्तेमाल को बढावा देने के लिए आधुनिक प्रौद्योगिकी के प्रयोग को प्रोत्साहन देने की जरूरत पर बल दिया ताकि लोग हिन्दी आसानी और जल्दी से सीख सकें।

       इस अवसर पर शील्ड और नकद राशि के रूप में कुल 44 पुरस्कार प्रदान किए गए। इसमें ज्ञान-विज्ञान पर  मूल रूप से हिन्दी में पुस्तक लेखन पर  राजीव गांधी राष्ट्रीय पुरस्कार और इंदिरा गांधी राज भाषा पुरस्कार तथा अन्य पुरस्कार शामिल हैं।

       समारोह में राजभाषा विभाग की त्रै-मासिक पत्रिका का प्रौद्योगिकी पर विशेष अंक का विमोचन भी किया गया। इस अवसर पर हिन्दी के उपयोग के बारे में आदेशों का अद्यतन संकलन भी जारी किया गया। संकलन का पिछला संस्करण  दस साल पहले  1996 में जारी किया गया था।

       प्रशिक्षण प्रणाली तथा भाषा शिक्षण प्रक्रिया को आधुनिक बनाने के लिए सी-डैक, पुणे की सहायता से अलग-अलग सॉपऊटवेयर विकसित किए गए हैं। इन सॉफ््टवेयरों में मुख्यतया विभिन्न क्षेत्रीय भाषाओं के माध्यम से हिन्दी शिक्षण (लीला श्रृंखला), हिन्दी से अंग्रेजी अनुवाद (मंत्र) और हिन्दी डिक्टेशनभाषणों के हिन्दी टंकण  (श्रुतलेखन)  आदि शामिल हैं। 

       पंजाबी, गुजराती, नेपाली और कश्मीरी के माध्यम से हिन्दी सीखने के लिए लीला-राजभाषा सॉपऊटवेयर  और सूचना प्रौद्योगिकी तथा स्वास्थ्य देखभाल के लिए मंत्र-राजभाषा सॉपऊटवेयर इंटरनेट पर उपलब्ध कराया गया। इस अवसर पर मंत्र-राजभाषा पर आधारित वाचान्तर-राजभाषा का बीटा रूपान्तर भी जारी किया गया।

       गृह राज्य मंत्री सर्वश्री माणिकराव एच. गावित और श्रीप्रकाश जायसवाल, गृह सचिव श्री मधुकर गुप्ता तथा राजभाषा विभाग के सचिव श्री रंजीत इस्सर समारोह में उपस्थित थे।

 

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

नाम निर्देशन पत्र प्राप्त करने की आज अंतिम तारीख आज 17 उम्मीदावरों ने नाम निर्देशन पत्र दाखिल किये

14 स्थान कंटेनमेंट जोन से मुक्त

कवल वन्यजीव अभयारण्य में वन भूमि का अतिक्रमण