भारी सुरक्षा व्यवस्था के बीच प्रत्याशियों ने भरा नामाकंन फार्म

भारी सुरक्षा व्यवस्था के बीच प्रत्याशियों ने भरा नामाकंन फार्म
अपनी - अपनी रैली निकालते हुए आ रहे थे प्रत्याशी
भाजपा, बसपा समेत कई पार्टियों के उम्मीदवारों ने भरे पर्चे
मुरैना, 5 नवम्बर। कलेक्ट्रेट में आज भारी सुरक्षा व्यवस्था के बीच जिले की सभी विधानसभा सीटों से प्रत्याशियों ने नामाकंन फार्म भरे। आज बुधवार के दिन नामांकन फार्म भरने वालो में भारतीय जनता पार्टी, बहुजन समाज पार्टी, भारतीय जनशक्ति पार्टी के अलावा निर्दलीय प्रत्याशियों ने भी नामांकन फार्म दाखिल किया। पुलिस ने किसी भी तरह की उपद्रव की स्थिति से निपटने के लिए भारी पुलिस बल कलेक्ट्रेट गेट के बाहर और अंदर तैनात किया था।
सुबह 10 बजे से ही कलेक्ट्रेट गेट के सामने विभिन्न दलों के प्रत्याशी अपनी - अपनी रैली निकालते हुए नामाकंन फार्म भरने के लिए पहुंचे। चूंकि पुलिस ने एम. एस. रोड के यातायात को एक तरफ से चालू रखा है। और दूसरी तरफ से बेरीक्रेट्स लगाते हुए और भारी पुलिस बल के साथ उसे गुलम्बर चौराहे से गणेशपुरा की पुलिया तक बंद रखा। इस घेरे में सिवाय पुलिस बल और मिडियाकर्मी के अतिरिक्त कोई दिखाई नहीं दे रहा था। आज नामांकन फार्म भरने वालों में भारतीय जनता पार्टी से मुरैना विधानसभा के प्रत्याशी रुस्तम सिंह, सुमावली प्रत्याशी गजराज सिंह, जौरा विधानसभा प्रत्याशी नागेन्द्र तिवारी, सबलगढ़ प्रत्याशी मेहरबान सिंह रावत, दिमनी विधानसभा प्रत्याशी शिवमंगल सिंह तौमर, बहुजन समाज पार्टी से मुरैना विधानसभा प्रत्याशी परशुराम मुदगल, सुमावली प्रत्याशी अजब सिंह कुशवाह, जौरा प्रत्याशी मनीराम धाकड़, सबलगढ़ प्रत्याशी सी.पी. शर्मा, दिमनी प्रत्याशी रविन्द्र तौमर, अम्बाह से सत्यप्रकाश ने नामांकन फार्म भरा। इसके अलावा कांग्रेस से सुमावली प्रत्याशी के रुप में ऐंदल सिंह कंषाना, भारतीय जनशक्ति पार्टी से दिमनी विधानसभा प्रत्याशी शिवचरण उपाध्याय ने भी अपने - अपने क्षेत्र के रिटर्निंग आफीसरों के सामने नामांकन पर्चा दाखिल किया। नामांकन फार्म भरने से पहले प्रत्याशी अपने साथ भारी संख्या में रैली निकालकर लाए थे। जिसे पुलिस बल ने कलेक्ट्रेट से 100 मीटर दूर रोक दिया।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

नाम निर्देशन पत्र प्राप्त करने की आज अंतिम तारीख आज 17 उम्मीदावरों ने नाम निर्देशन पत्र दाखिल किये

14 स्थान कंटेनमेंट जोन से मुक्त

कवल वन्यजीव अभयारण्य में वन भूमि का अतिक्रमण