नगर निगम ऑनलाइन होने की तैयारी में

नगर निगम ऑनलाइन होने की तैयारी में
ई-गुमटियों में जमा हो सकेंगे टैक्स
संजय गुप्ता (मांडिल)
मुरैना। आधुनिकता की दौड़ में शामिल नगर निगम आनलाइन होने के करीब है। फिलहाल चार सुविधाएं आमजन के लिये ऑनलाइन की जाएंगी; इसके लिये एमपी ऑनलाइन से जल्द ही एग्रीमेंट किया जाएगा; इसके साथ ही शहर में ई-गुमटी की शुरूआत की जाएगी।
पारदर्शी प्रशासन के लिये निगम प्रशासन ने आनलाइन व्यवस्था लागू करने की पहल की है। इसके तहत शुरूआत में जलकर ,सम्‍पत्तिकर, तथा जन्म-मृत्यु के प्रमाण पत्रों को ऑनलाइन कर दिया जाएगा। इसके लिये एमपी. ऑनलाइन के प्रतिनिधि तथा निगम प्रशासन के बीच न सिर्फ विस्तार से चर्चा हो चुकी है बल्कि निगम प्रशासन ने मेयर-इन-आउंसिंल से स्वीकृति भी प्राप्त कर ली हैं।
सुविधा के बदले देना होगा नाम मात्र का शुल्क: निगम और एमपी. ऑनलाइन के एग्रीमेंट के साथ ही महानगर के विभिन्न स्थानों पर ई-गुमटियों की स्थापना की जाएगी। इन गुमटियों के संचालक निर्धारित शुल्क जमा कराकर एमपी ऑनलाइन से लाइसेंस लेंगे और मुख्य सर्वर से कनेक्ट हो जाएंगे, हालांकि यहीं कार्य निगम कार्यालयों पर नि:शुल्क हो सकेंगे।
महानगर के निवासियों को ई-गुमटियां खुलने से लाभ यह होगा कि वे न्यूनतम सेवा शुल्क अदा करके निगम कार्यालय में आए बिना ही इन गुमटियों में जल कर व सम्पत्ति कर जमा करा सकेंगे, इतना ही नहीं जन्म व मृत्यु के प्रमाण-पत्र की आपचारिकताएं पूरी करने के बाद यहां से प्राप्त कर सकेंगे। यह शुल्क दस से 15 रुपये तक होगा।
मुख्यालय से जुडेग़ा निगम का सर्वर:- ऑनलाइन की शुरूआती प्रक्रिया से में निगम में कम्प्यूट्रीकरण का कार्य कर रही कम्पनी द्वारा टाउन हॉल में स्थापित सर्वर एमपी ऑन लाइन के मुख्य सर्वर से जुड़ जाएगा। निगम का समस्त कार्यालय भी इसी डाटा ट्रांसफर करने में भी आसनी रहेगी।
एक सप्ताह में शुरू होगा सेंटर:- नगर निगम में डोलीबुआ पुल स्थित कार्यालय पर आनलाइन सेंटर के लिये एक अत्याधुनिक व आकर्षक कक्ष का निर्माण कराया है। यह कक्ष एक सप्ताह में कार्य प्रारंभ कर देगा। इस कक्ष में सम्पत्ति कर व जलकर आदि जमा करने पर कम्प्यूटराइज्ड रसीद दी जाएगी। इस तरह के कक्ष पूरे शहर में स्थापित किए जाएंगे।
निगम में प्रारूप होगा:- निगम प्रशासन ने एमपी ऑनलाइन के प्रतिनिधियों से जलकर व सम्पत्ति कर सहित जन्म मृत्यु प्रमाण-पत्रों के प्रारूप् तैयार करने को कहा है। हालांकि एमपी ऑनलाइन ने एग्रीमेंट का प्रारूप निगम को भेज दिया है, लेकिन प्रारूप् की प्रतियां देखने के बाद ही निगम प्रशासन एग्रीमेंट को अंतिम रूप प्रदान करेंगा।
नोट:- इस माह के अंत तक एमपी ऑनलाइन से अनुबंध हो जाएगा और उसके बाद ई-गुमटियों की कार्रवाई भी जल्द शुरू कर दी जाएगी। फिलहाल निगम का सेंटर तैयार है, इसकी शुरूआत शीध्र होगी।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

नाम निर्देशन पत्र प्राप्त करने की आज अंतिम तारीख आज 17 उम्मीदावरों ने नाम निर्देशन पत्र दाखिल किये

14 स्थान कंटेनमेंट जोन से मुक्त

कवल वन्यजीव अभयारण्य में वन भूमि का अतिक्रमण